vande matram

Just another weblog

15 Posts

192 comments

deepasingh


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

Posted On: 5 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

चलना होगा बिना रुके जंक्शन फोरम

Posted On: 1 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 4.29 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

61 Comments

चलना होगा बिना रुके

Posted On: 1 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

क्या विधवा और वृद्ध हो जाना अभिशाप है?जंक्शन फोरम.

Posted On: 30 Oct, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 3.89 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

44 Comments

Posted On: 28 Oct, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

GUNGI BEHRI AUR ANDHI HOTI INSANIYAT

Posted On: 9 Oct, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

8 Comments

GART MAI JAATI SAMAAJ KI SOCH

Posted On: 8 Oct, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

आज की बात करें तो आधुनिक शिक्षा पद्धति पहले की शिक्षा से बहुत आगे है. परन्तु साथ ही ये भी सत्य है और जिस से हम मुख नही फेर सकते कि ये आधुनिक शिक्षा चरित्र निर्माण करने में असमससर्थ है. क्या हमारे बच्चे हमारे इतिहास और अपने महान पूर्वजों और उनके योगदान से भली भाँती परिचित है इसमें कोई शंका नही क्योकि इसका उत्तर हम सभी जानते है कि हमारे बच्चे इस सबसे परिचित नही हैं. इसका कारण यह है कि आज इसकी आवश्यकता नहीं समझी जाती इसीलिए ना ही घर में माता पिता औरना ही विध्यालयों में शिक्षकों द्वारा इसकी शिक्षा दी जाती है. विध्यालयो में नैतिक शिक्षा जिससे बच्चों का चरित्र निर्माण हो सके ऐसा कोई विषय नहीं है और ना ही अपने महापुरुषों की जीवनियाँ उनका योगदान इस देश को क्या था ऐसी जानकारी देने वाला पाठ्यक्रम है. आज के बच्चे देशी और विदेशी फिल्मों के अभिनेता और अभिनेत्रियों के विषय में तो पूरी जानकारी रखते है और उन्ही का काफी हद तक अनुसरण भी करते है. लेकिन अगर उनसे भारत के सच्चे हीरो रहे किसी भी व्यक्तित्व के विषय में पूछा जाय तो शायद ही ठीक जानकारी दे पाए और जो जानकारी रखते है उनकी संख्या बहुत कम होगी. हम जब उन्हें अपने सच्चे वीरो की जानकारी देंगे तो उनपर इसका प्रभाव अवश्य ही पड़ेगा और वो इन सबसे नैतिक मूल्यों को भी अपनाएंगे.आदरणीय दीपा जी सादर , देश के विकास हेतु बच्चों में आज सुसंस्कार व सच्चरित्र अति आवश्यक हैं और इनकी शिक्षा अपने घर से बेहतर अन्य किसी शाला में नहीं मिल सकती और इस शाला में मत-पिता व अन्य पारिवारिक सदस्यों की अहम् भूमिका है…! समाचार पत्र में आपका लेख देख कर प्रसन्नता हुई ! बधाई आपको .

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: shalinikaushik shalinikaushik

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: akraktale akraktale

के द्वारा: akraktale akraktale

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: ज्ञानेन्‍द्र त्रिपाठी ज्ञानेन्‍द्र त्रिपाठी

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: deepasingh deepasingh

के द्वारा: डॉo हिमांशु शर्मा (आगोश ) डॉo हिमांशु शर्मा (आगोश )

के द्वारा: deepasingh deepasingh




latest from jagran